क्या कर्म-सिद्धांत सच है ( Is Law of Karma True)?

सत्संग में पूछे गए साधको के प्रश्नों के उत्तर सदगुरु ओशो शैलेन्द्र जी द्वारा | : जानिए क्या कर्म का सिद्धांत सच है, क्या हमारे कर्मो का कोई प्रभाव पड़ता है ?

धार्मिक माहौल में रहने के बावजूद मुझ में क्रोध, ईर्ष्या इत्यादि क्यों है?

सत्संग में पूछे गए साधको के प्रश्नों के उत्तर सदगुरु ओशो शैलेन्द्र जी द्वारा|: धार्मिक माहोल में पूजा-पाठ, भक्ति इत्यादि करने के बाद भी आदमी क्रोधित क्यों रहता है?

क्या बिना गुरु के, सीधे प्रभु नहीं मिल सकता (Why Guru is necessary)?

सत्संग में पूछे गए साधको के प्रश्नों के उत्तर सदगुरु ओशो शैलेन्द्र जी द्वारा |: जानिए जीवन में गुरु का महत्त्व, अंतर्यात्रा में गुरु की क्या जरुरत है ?

क्या मादक द्रव्यों के प्रयोग से आनंद प्राप्त किया जा सकता है?

सत्संग में पूछे गए साधको के प्रश्नों के उत्तर सदगुरु ओशो शैलेन्द्र जी द्वारा|: क्या हम शराब आदि मादक पदार्थों के सेवन से आनंद उपलब्ध कर सकते है ?

अनेक धर्म ग्रन्थ 'ॐ' से शुरू होते है, ऐसा क्यों ? 'ॐ' का क्या अर्थ है?

सत्संग में पूछे गए साधको के प्रश्नों के उत्तर सदगुरु ओशो शैलेन्द्र जी द्वारा|: ॐ क्या? ॐ को इतना महत्त्व क्यों दिया गया है , धर्म शास्त्र , मंत्र में ॐ क्यों उपयोग किया जाता है ?

ध्यान के दौरान अनर्गल विचारों से कैसे बचें?

सत्संग में पूछे गए साधको के प्रश्नों के उत्तर सदगुरु ओशो शैलेन्द्र जी द्वारा|: ध्यान के दौरान चलने वाले विचारों से कैसे बचें ? चित्त को कैसे एकाग्र करें ?

The Difference Between Trust and Being Naive(English)

In the beginning they both look the same. But in the end, the quality of being naive turns into distrust, and the quality of trusting goes on becoming more trusting, more compassionate, more understanding of human weaknesses, human frailties.

Waking Up the World (English)

Osho responds to the question: I've heard you say, that you tell a few jokes to wake up the world. When did the world go to sleep? And is it waking up?

I Am A Threat - Certainly ! (English)

.If you don't understand what I am saying, I am a threat, certainly. But if they understand what I am saying, they will rejoice, there is no threat. In fact, I want to make these people contemporaries.

अपने प्राणों को पढ़ो

जिसको तुम खोज रहे हो, वह तुम्हारे भीतर मौजूद है। जिसके लिए तुम जन्मों-जन्मों से भटक रहे हो, उसे एक क्षण को भी तुमने गंवाया नहीं है, वह सदा से तुम्हारे भीतर बैठा है। अपने भीतर लौट आओ। जरा लौटो, बस इतना ही तो मेरा शिक्षण है। अपनी तरफ आंख खोलो। अपनी किताब खो

निर्विकल्प समाधि

जब आंख भी बंद, कान भी बंद और भीतर होश का दीया जला, फिर कैसा विचार? उसी को तो निर्विचार कहा है। उसी को तो निर्विकल्प समाधि कहा है। ऐसी ही घड़ी में तो आकाश तुम्हारे भीतर उतर आता है। ऐसी ही घड़ी में तो बूंद में सागर समाविष्ट हो जाता है।

जीवन एक अवसर है |

जीवन एक अवसर है। जीवन तथ्य नहीं, केवल एक संभावना है--जैसे बीज, बीज में छिपे हैं हजारों फूल, पर प्रकट नहीं--अप्रकट हैं, प्रच्छन्न हैं। बहुत गहरी खोज करोगे तो पा सकोगे। पा लोगे तो जीवन धन्य हो जाएगा।

कबीर, बुद्ध और मीरा का संगम |

वह घड़ी, वह संध्याकाल--जहां मीरा होश में आ जाती है और जहां बुद्ध नाचने लगते हैं, उसका नाम है--खुमारी। पीवत रामरस लगी खुमारी

"Om Mani Padme Hum" - The Music of OM (English)

"Om Mani Padme Hum." The only country in the world which has devoted all its genius to the inner exploration is Tibet. Its findings are of tremendous value. Om mani padme hum is one of the most beautiful expressions for the ultimate experience.

Being In Love (English)

Love should be a reality in your life, not just a poem, not just a dream. It has to be actualized. It is never too late to experience love for the first time.

Marriage and Children (English)

Marriage and Children are important questions for many people in relationships. Osho brings a new dimension to this - individuality and awareness.

यह तो मधुशाला है

यह तो मैखाना है, मधुशाला है। यहां तो पियक्कड़ों की जमात है। ये रिंद बैठे हैं। यहां तो अदृश्य शराब पीई जा रही है, पिलाई जा रही है। अगर पीना हो, तो पीओ। और अगर हिम्मत हो, तो ही पी पाओगे। क्योंकि यहां किसी परंपरा की बात नहीं हो रही है। यहां शुद्ध सत्य की बात

मन के साक्षी बनो - Witness Your Mind

साक्षी-भाव में तुम ठहर जाओ, थिर हो जाओ, इस साक्षी-भाव में तुम रम जाओ, तो तुम्हारे जीवन में महारास है! तो तुम्हारे जीवन में फिर दीवाली ही दीवाली है, फाग ही फाग है! फिर तुम्हारा जीवन सावन का महीना है। फिर डालो झूले, फिर गाओ गीत। फिर तुम्हारे गीतों का रंग और

वर्तमान में जीना - Living In the Present

जीवन रोज बदला जाता है। पुराने मूल्य बह जाते हैं पानी में, नये मूल्य आ जाते हैं। पुरानी धारणाएं टूट जाती हैं, नई धारणाएं आ जाती हैं। समय बदलेगा तो सभी मूल्य बदलेंगे। और वही जाति जीवित होती है जो समय के साथ बदल जाती है। वही व्यक्ति जीवित होते हैं जो समय क

मानो मत, जानो - Maano Mat, Jaano

जानने का पहला कदम है--मानने से मुक्त हो जाना। पहले चाहिए कि तुम्हारे चित्त की स्लेट खाली हो जाए। पोंछ डालो जो भी दूसरों ने लिख दिया है। धो लो स्लेट, साफ कर लो। कोरी कर लो तुम्हारी किताब। और मजा यह है कि कोरी किताब तुमने क्या की कि जैसे राम को आमंत्रण मि

Satsang with Osho Siddharth Ji

"Bharat se Bhartiyata ki aur" given by Osho Siddharth Ji. Answers on various questions- Bharat kya hai, Kaushal chakra, Commune, Parivar ka bhavishya etc.

Discourse by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Dariya Saheb,B

Discourse given by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Dariya Saheb,Bihar OshoDhara is a live mystery school under the guidance of Trinity of masters - Sadguru Trivir, following the vision of Great Master OSHO. Relive and transform your life through old

Discourse by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Kabir

Discourse given by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Kabir OshoDhara is a live mystery school under the guidance of Trinity of masters - Sadguru Trivir, following the vision of Great Master OSHO. Relive and transform your life through old and new medi

Discourse by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Paltu Sahib

Discourse given by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Paltu Sahib OshoDhara is a live mystery school under the guidance of Trinity of masters - Sadguru Trivir, following the vision of Great Master OSHO. Relive and transform your life through old and ne

Discourse by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Ravidas

Discourse given by Osho Siddharth Ji on Sant Vaani - Ravidas OshoDhara is a live mystery school under the guidance of Trinity of masters - Sadguru Trivir, following the vision of Great Master OSHO. Relive and transform your life through old and new me